Sunday, 27 February 2011

हाइकु कविताएँ

तम से डर
निकली है दिन में
लुटी दोपहरी ।


जाड़े की धूप
गरीबी का ओढ़ना
बिटिया हँसी ।


- सुमन दूबे मनस्विनी

2 comments:

  1. 1916 - 2016
    विधा हाइकु
    सौ हाइकुकारों की
    शताब्दी हर्ष

    पुस्तक , विमोचन ,4 दिसम्बर 2016 हाइकु दिवस आयोजन
    शामिल होने की इच्छा हो तो सम्पर्क करें

    ReplyDelete
  2. 1916 - 2016
    विधा हाइकु
    सौ हाइकुकारों की
    शताब्दी हर्ष

    पुस्तक , विमोचन ,4 दिसम्बर 2016 हाइकु दिवस आयोजन
    शामिल होने की इच्छा हो तो सम्पर्क करें

    ReplyDelete